जब कोई यीशु के पुनर्जन्म का दावा करता है, तो मसीहियों को कैसे उत्तर देना चाहिए?


प्रश्न: जब कोई यीशु के पुनर्जन्म का दावा करता है, तो मसीहियों को कैसे उत्तर देना चाहिए?

उत्तर:
कई बार, कोई न कोई यीशु का पुनर्जन्म होने का दावा करता रहता है। इनमें से कुछ व्यक्तियों ने यीशु की लोकप्रिय कलात्मक चित्र जैसे प्रगटीकरण का भी अनुभव प्राप्त किए होने का दावा किया है। कुछ समय के लिए, "यीशु के पुनर्जन्म" होने के ये दावेदार अनुयायियों को भी प्राप्त करते हैं। कई विभिन्न कारणों से, ये सभी अन्ततः धोखा देने वाले और पाखण्डी के रूप में उजागर हो जाते हैं। एक आदर्श जीवन को बनाए रखना कठिन होता है। इस कारण मसीहियों और गैर-मसीहियों को कैसे उत्तर देना चाहिए, विशेष रूप से तब जब कोई यीशु के पुनर्जन्म होने का दावा करता है?

ध्यान देने वाली पहली बात यह है कि पुनर्जन्म जैसी बाइबल आधारित कोई अवधारणा नहीं है। बाइबल शिक्षा देती है कि हर कोई मर जाता है और फिर न्याय का सामना करता है (इब्रानियों 9:27)। एक चलते रहने वाले चक्र का विचार जिसमें लोग मृत्यु और पुनर्जन्म की धारणा में फंसे हैं, हिन्दू धर्म और बौद्ध धर्म से आता है। यह कभी भी, और आगे भी कभी नहीं, एक मसीही/बाइबल आधारित शिक्षा नहीं होगी। यीशु मसीह का दूसरा आगमन कभी भी यीशु का पुनर्जन्म नहीं होगा।

यीशु मसीह का दूसरा आगमन प्रकाशितवाक्य 19:11-16 में बड़े विस्तार से वर्णित है। यह यीशु का पुनर्जन्म नहीं है। यह यीशु का स्वयं उसकी महिमा में लौटना है। दूसरे आगमन पर, यीशु संसार में "फिर से जन्म" नहीं लेता है; वह एक शिशु के रूप में नहीं आता है, जैसा कि उसने अपने पहले आगमन पर किया था। इसकी अपेक्षा, यीशु उसी महिमामयी देह में लौटता है, जिसके साथ वह ऊपर गया था (प्रेरितों के काम 1:11)। बाइबल यह भी शिक्षा देती है कि यीशु की वापसी विश्वव्यापी उथल-पुथल के समय होगी। उसका दूसरा आगमन महा क्लेश के अन्त में होगा। यीशु की वापसी शान्ति के राजकुमार के रूप में नहीं अपितु एक विजय योद्धा के रूप में होगी।

यीशु ने हमें चेतावनी दी थी कि कई झूठे मसीह उठ खड़े होंगे। यही बात है कि जो कोई यीशु के पुनर्जन्म होने का दावा करता है - वह एक झूठा मसीह है। लूका 17:23-24 में, यीशु ने घोषणा की है कि, "लोग तुम से कहेंगे, ‘देखो, वहाँ है!’ या ‘देखो, यहाँ है!’ परन्तु तुम चले न जाना और न उनके पीछे हो लेना। क्योंकि जैसे बिजली आकाश के एक छोर से कौंध कर आकाश के दूसरे छोर तक चमकती है, वैसे ही मनुष्य का पुत्र भी अपने दिन में प्रगट होगा।” मत्ती 24:23-25 को भी देखें। यीशु कह रहा है कि उसका दूसरा आगमन बिना किसी गलती के होगा। इसके प्रति कोई सन्देह नहीं होगा। यह रात के अन्धेरे में एक शक्तिशाली बिजली को कौंधने के रूप में स्पष्ट होगा।

जो कोई भी यीशु के पुनर्जन्म होने का दावा करता है वह एक झूठा, एक पाखण्डी, एक झूठा भविष्यद्वक्ता और एक झूठा मसीही है। उसके ऊपर कोई ध्यान नहीं दिया जाना चाहिए और उसे कोई धन नहीं दिया जाना चाहिए। पुनर्जन्म पूरी तरह से गैर-बाइबल आधारित अवधारणा है। यीशु का दूसरा आगमन, जैसा कि बाइबल में वर्णित है, किसी भी तरह पुनर्जन्म की धारणा से मिलता जुलता नहीं है। यीशु का जन्म एक बार हुआ था; वह एक ही बार मरा; और अब वह पुनर्जीवित है जो "युगानुयुग जीवता है!" (प्रकाशितवाक्य 1:18)।

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
जब कोई यीशु के पुनर्जन्म का दावा करता है, तो मसीहियों को कैसे उत्तर देना चाहिए?