इसका क्या अर्थ है कि यीशु पापमय शरीर की समानता में आया था?


प्रश्न: इसका क्या अर्थ है कि यीशु पापमय शरीर की समानता में आया था?

उत्तर:
रोमियों 8:3–4 कहता है कि, "क्योंकि जो काम व्यवस्था शरीर के कारण दुर्बल होकर न कर सकी, उस को परमेश्‍वर ने किया, अर्थात् अपने ही पुत्र को पापमय शरीर की समानता में और पापबलि होने के लिये भेजकर, शरीर में पाप पर दण्ड की आज्ञा दी। इसलिये कि व्यवस्था की विधि हममें जो शरीर के अनुसार नहीं वरन् आत्मा के अनुसार चलते हैं, पूरी की जाए।" इस बात "पापमय शरीर की समानता में" को समझने के लिए हमें कुछ शब्दों को परिभाषित करने की आवश्यकता है।

जब बाइबल "शरीर" का सन्दर्भ देती है (यूहन्ना 6:63; रोमियों 8:8), तो सामान्य रूप में पाप करने की मानवीय प्रवृत्ति के अर्थ को निहित करती है, जिसे हम सभी ने आदम से विरासत में पाया है (रोमियों 5:12)। जब आदम और हव्वा ने परमेश्वर की आज्ञा के विरूद्ध विद्रोह करना चुना, तो वे "पापमय शरीर" बन गए। उसी समय, पाप ने परमेश्वर के सिद्ध संसार में प्रवेश किया और सब कुछ दूषित होना आरम्भ हो गया (उत्पत्ति 3)। चूँकि प्रत्येक व्यक्ति आदम से आया है, इसलिए हम सभी को उसका पाप में पतित स्वभाव धरोहर अर्थात् विरासत में मिला है। इसलिए प्रत्येक व्यक्ति पापी के रूप में जन्म लेता है (रोमियों 3:10, 23)।

शब्द समानता का अर्थ "सादृश्य" या "उसके जैसा कुछ और होने की अवस्था" से है। समानता तत्व या स्वभाव में एक जैसी नहीं होती है, परन्तु यह दिखने में समान होती है। समानता वास्तविकता का एक प्रस्तुतिकरण होती है। उदाहरण के लिए, मूर्तियों को पक्षियों और पशुओं और सृजी हुई वस्तुओं की समानता में बनाया जाता है (रोमियों 1:22–23; निर्गमन 20:4–5)। एक चित्र एक समानता होती है। फिलिप्पियों 2:6–8 में यीशु को परमेश्वर के रूप में उसके ईश्वरीय विशेषाधिकारों को एक ओर रखते हुए उस मनुष्य की समानता को धारण करने के साथ वर्णित किया गया है, जिसे उसने सृजा था (यूहन्ना 1:3 को भी देखें)। क्योंकि, यीशु के पास सांसारिक पिता नहीं था, इसलिए उसने पापमय स्वभाव को प्राप्त नहीं किया जैसा कि अन्य सभी मनुष्य करते हैं (लूका 1:35)। उसने मानवीय शरीर को धारण किया, तौभी उसने अपनी पूर्ण ईश्वरत्व को बनाए रखा। उसने उस जीवन को व्यतीत किया जिसे हम व्यतीत करते हैं, और जैसे हम सीखते और बड़े होते हैं, वैसे ही वह भी सीखा और बड़ा हुआ, परन्तु उसने यह सब पाप के बिना किया (इब्रानियों 4:15; 5:7–8)। क्योंकि परमेश्वर उसका पिता था, इसलिए वह केवल पापमय शरीर की समानता में रहा। यीशु को शरीर उसकी माँ मरियम की ओर से प्राप्त हुआ था, परन्तु यूसुफ से पाप नहीं मिला था।

यीशु हमारा विकल्प बनने के लिए मनुष्य बन गया। अपने शरीर में, उसे शारीरिक पीड़ा, भावनात्मक अस्वीकृति और परमेश्वर से आत्मिक अलगाव का सामना करना पड़ा (मत्ती 27:46; मरकुस 15:34)। उसने उसी जीवन को व्यतीत किया, जिस जीवन को हम मनुष्य करते हैं, परन्तु उसने ऐसा उस तरीके से किया जिस तरीके से हमें करना चाहिए था — अर्थात् पवित्र परमेश्वर के साथ पूर्ण संगति में रहते हुए (यूहन्ना 8:29)। क्योंकि वह पापमय शरीर की समानता में आया था, इसलिए वह स्वयं को अन्तिम बलिदान के रूप में प्रस्तुत कर सका जो कि सारी मानवता के पापों के भुगतान के लिए पर्याप्त था (यूहन्ना 10:18; इब्रानियों 9:11–15)।

परमेश्वर से पूर्ण क्षमा का उपहार प्राप्त करने के लिए, प्रत्येक व्यक्ति को यीशु को अपना व्यक्तिगत् विकल्प बनाने की अनुमति देनी चाहिए। इसका अर्थ यह है कि हम विश्वास में, उसे पहचानते हुए उसके पास आते हैं, क्योंकि वह पापमय शरीर की समानता में आया था, क्रूस पर चढ़ाया गया था, और उसने संसार के पापों को अपने ऊपर ले लिया, हमारे पाप का पूरा भुगतान किया गया है (2 कुरिन्थियों 5:21)। हमारा अपना पापमय शरीर उसके साथ क्रूस पर चढ़ाया जाता है, ताकि हम परमेश्वर की आज्ञा मानने के लिए पवित्र आत्मा का अनुसरण करने के लिए स्वतन्त्र हों सकें (रोमियों 6:6-11; गलातियों 2:20)। मसीही विश्वासी वे लोग हैं, जिनके पास मसीह की मृत्यु है, और जिनके जीवन में पुनरुत्थान दिया गया है, इस प्रकार हमारे द्वारा उस ऋण को समाप्त कर दिया गया है, जिसे हमें परमेश्वर को देना था (कुलुस्सियों 2:14)। इस पूर्ण क्षमा के कारण, मसीही विश्वासी प्रतिदिन अपने पापमय शरीर के लिए स्वयं को मारते हैं। चूंकि मसीह ने अपने शरीर में पाप और मृत्यु के ऊपर जय को प्राप्त किया है, इसलिए हम उसके आत्मा की सामर्थ्य के द्वारा अपने जीवन को व्यतीत कर सकते हैं, जो मसीह में भरोसा करने वाले सभी लोगों के पास होगी जो पाप और मृत्यु के ऊपर जय को प्राप्त करेंगे (गलातियों 5:16, 25; रोमियों 8:37)।

English


हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
इसका क्या अर्थ है कि यीशु पापमय शरीर की समानता में आया था?

पता लगाएं कि कैसे ...

भगवान के साथ अनंत काल बिताओ



भगवान से क्षमा प्राप्त करें