एक मसीही विश्वासी किस प्रकार के व्यवसाय को अपनाने के ऊपर विचार कर सकता है?


प्रश्न: एक मसीही विश्वासी किस प्रकार के व्यवसाय को अपनाने के ऊपर विचार कर सकता है?

उत्तर:
कई बार हम सोचते हैं कि मसीहियों में ऐसे "मसीही व्यवसायों" को करने की इच्छा होनी चाहिए, जैसे कलीसिया में या कलीसिया की सहायक सेवकाई में काम करना चाहिए। हमें शीघ्र ही पता चल जाता है कि मसीही विश्वासी कलीसिया की दीवारों के बाहर या मसीही नाम के बिना भी काम कर सकते हैं, परन्तु तब हम स्वयं को "सहायता" देने वाले व्यवसायों तक ही सीमित कर देते हैं। मसीही विश्वासी डॉक्टर, नर्स, शिक्षक, बच्चों की देखभाल करने वाले कार्यकर्ता, सामाजिक कार्यकर्ता, कानून का पालन करवाने वाले अधिकारी या परामर्शदाता हो सकते हैं। परन्तु वह एक व्यापारी? वकील? तकनीशियन? आविष्कारक? भवन निर्माण करने वाला ठेकेदार? फैशन डिज़ाईनर? न्यूज एंकर? टी वी उत्पादन करने वाला? संगीतकार? कलाकार? भी तो हो सकता है। हम इन नौकरियों को मसीहियों के द्वारा इच्छित किए जाने वाले कार्यों के रूप में सूचीबद्ध नहीं करते हैं। इस तरह के सीमित दृष्टिकोण के बारे में बाइबल कुछ भी नहीं कहती है।

मसीही विश्वासी लगभग किसी भी व्यवसाय या कैरियर को करने के ऊपर विचार कर सकते हैं। पौलुस ने कुरिन्थियों को लिखा है कि, "जैसा प्रभु ने हर एक को बाँटा है, और जैसा परमेश्‍वर ने हर एक को बुलाया है, वैसा ही वह चले। मैं सब कलीसियाओं में ऐसा ही ठहराता हूँ... हर एक जन जिस दशा में बुलाया गया हो, उसी में रहे। यदि तू दास की दशा में बुलाया गया हो तो चिन्ता न कर। (परन्तु यदि तू स्वतन्त्र हो सके, तो ऐसा ही काम कर।)... जो कोई जिस दशा में बुलाया गया हो, वह उसी में परमेश्‍वर के साथ रहे”(1 कुरिन्थियों 7:17, 20-21, 24)। पौलुस विश्वासियों को अपने वर्तमान काम को छोड़ने और मिशनरी या पास्टर बनने के लिए नहीं कहता है। वह उनसे कहता है कि वे वहीं रहें और परमेश्वर की सेवा करें। पौलुस ने कुलुस्सियों के इस जैसा ही कुछ लिखा, "वचन में या काम में जो कुछ भी करो सब प्रभु यीशु के नाम से करो, और उसके द्वारा परमेश्‍वर पिता का धन्यवाद करो" (कुलुस्सियों 3:17)। यह बात उतनी महत्वपूर्ण नहीं है कि हम क्या कर रहे हैं, अपितु यह महत्वपूर्ण है कि हम किस के लिए कर रहे हैं। जब हम एक पास्टर, एक निवेशक, एक अभिनेता, एक घर पर रहने वाली माता, एक सामान बेचने वाला क्लर्क, या किसी अन्य काम में रूप में कार्य करते हैं, तो हम परमेश्वर की महिमा करते हैं।

व्यवसाय को चुनना कठिन हो सकता है। स्पष्ट है, कि यह प्रार्थना का विषय है। आपको अपने जीवन के लिए उसकी इच्छा के लिए परमेश्वर के दिशानिर्देश की खोज करनी चाहिए। यह उन विशेष वरदानों की जाँच करने में भी सहायतापूर्ण हो सकता है, जिन्हें परमेश्वर ने आपको दिए हैं। वह हम में से प्रत्येक को विशेष इच्छाओं, प्रतिभाओं और रुचियों और विशेष उद्देश्यों के साथ एक-दूसरे से भिन्न करता है (1 कुरिन्थियों 12; रोमियों 12:4-8)। उन लोगों के साथ बात करना भी सहायतापूर्ण हो सकता है, जो आपको अच्छी तरह से जानते हैं। ऐसे लोग बुद्धिमानी से भरे हुए परामर्शदाता के रूप में सेवा कर सकते हैं (नीतिवचन 15:22), जो अक्सर उपयोगी अन्तर्दृष्टि को प्रदान करते हैं। आपके द्वारा किए जाने वाले सम्भावित व्यवसाय के क्षेत्र में किसी का साक्षात्कार लेना या उनके साथ एक दिन बिताना या उस क्षेत्र में स्वयं सेवा करना, जिसकी ओर आप स्वयं को खींचा हुआ महसूस करते हैं, लाभदायी हो सकता है।

मसीही विश्वासी किसी भी कैरियर को अपनाने के ऊपर विचार कर सकते हैं, जिसमें वे परमेश्वर का सम्मान कर सकें और उन विशेषताओं का उपयोग करें जिनके साथ परमेश्वर ने उन्हें रचा है। नि:सन्देह, कुछ व्यवसाय ऐसे होते हैं, जो स्वाभाविक रूप से परमेश्वर के लिए अनादर को ले आते हैं - उनमें से अधिकांश कानून की ओर से कठोरता करने पर भी बन्द किए गए हैं, जैसे वेश्यावृत्ति या अश्लील सामग्री का निर्माण इत्यादि। परन्तु कोई भी व्यवसाय जिसमें पाप के प्रदर्शन की आवश्यकता नहीं है, यह प्रशंसनीय मसीही कार्य हो सकता है और इसे परमेश्वर की महिमा के लिए किया जा सकता है (कुलुस्सियों 3:15)।

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
एक मसीही विश्वासी किस प्रकार के व्यवसाय को अपनाने के ऊपर विचार कर सकता है?