समय प्रबन्धन के बारे में बाइबल क्या कहती है?


प्रश्न: समय प्रबन्धन के बारे में बाइबल क्या कहती है?

उत्तर:
समय प्रबन्धन हमारे जीवन की संक्षेप होने के कारण अत्यधिक महत्वपूर्ण है। हमारी सांसारिक यात्रा की तुलना में हम जितना अधिक इसके बारे में सोचने के लिए इच्छुक हैं, यह उतना ही अधिक कम है। जैसा कि दाऊद ने स्पष्ट रूप से कहा है कि, “देख, तू ने मेरी आयु बालिश्त भर की रखी है, और मेरी अवस्था तेरी दृष्‍टि में कुछ है ही नहीं। सचमुच सब मनुष्य कैसे भी स्थिर क्यों न हों तौभी व्यर्थ ठहरे हैं”(भजन 39:4-5) प्रेरित याकूब इसे नए रीति से दुहराता है: "तुम तो भाप के समान हो, जो थोड़ी देर दिखाई देती है फिर लोप हो जाती है" (याकूब 4:14)। वास्तव में, पृथ्वी पर हमारा समय क्षणभंगुर है - वास्तव में, यह अनन्त काल की तुलना में असीमित रीति से छोटा है। जैसा परमेश्वर चाहता है, उस तरीके से जीवन यापन करने के लिए, यह आवश्यक है कि हम अपने लिए आवंटित किए गए समय का सर्वोत्तम रीति से उपयोग करें।

मूसा प्रार्थना करता है, "हम को अपने दिन गिनने की समझ दे कि हम बुद्धिमान हो जाएँ" (भजन 90:12)। ज्ञान प्राप्त करने का एक अच्छा तरीका यह है कि हर दिन एक शाश्वतकालीन दृष्टिकोण के साथ जीना यापन करना सीखा जाए। हमारे सृष्टिकर्ता ने हमारे मनों में अनन्त काल को निर्धारित किया है (सभोपदेशक 3:11)। यह जानते हुए कि हमें उसे अपने जीवन का विवरण देना होगा जो हमें समय देता है, हमें इसे अच्छी तरह से उपयोग करने के लिए प्रेरित होना चाहिए। सी. एस. लुईस ने इस बात को इस तरह से समझाया है: "यदि आप इतिहास को पढ़ेंगे तो आप पाएँगे कि वर्तमान संसार के लिए जिन मसीहियों ने सबसे अधिक काम किया है, वे वही थे जिन्होंने सबसे अधिक सोचा था।"

इफिसियों को लिखे अपने पत्र में, पौलुस ने सन्तों को चेतावनी देते हुए कहा है कि, "इसलिये ध्यान से देखो, कि कैसी चाल चलते हो : निर्बुद्धियों के समान नहीं पर बुद्धिमानों के समान चलो। अवसर को बहुमूल्य समझो, क्योंकि दिन बुरे हैं" (इफिसियों 5:15-16)। समझदारी से जीवन यापन करने में हमें हमारे समय का सावधानीपूर्वक उपयोग करना सम्मिलित है। यह जानकर कि फसल बहुत ज्यादा है और श्रमिक थोड़े हैं (लूका 10:2) और समय तेजी से कम हो रहा है, हमें अपने समय का उत्तम रीति से अपने शब्दों और अपने आदर्श दोनों के माध्यम से उपयोग करने में सहायता करनी चाहिए। हम समय को दूसरों के साथ प्रेम करने और सच्चाई में व्यतीत करना है (1 यूहन्ना 3:17-18)।

इसमें कोई सन्देह नहीं है कि इस संसार में दायित्व पाए जाते हैं और दबाव हमारे ध्यान को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। भिन्न दिशाओं में हमें खींचने वाली असँख्य वस्तुएँ हमारे समय को प्रतिदिन की सांसारिक, कम महत्व वाली बातों को पूरा करने में समाप्त कर देती हैं। उन प्रयासों का, जिनका शाश्वतकालीन मूल्य है, तत्पश्चात, अक्सर एक ओर धकेल दिए जाते हैं। ध्यान खोने से बचने के लिए, हमें लक्ष्यों को प्राथमिकता देने और निर्धारित करने की आवश्यकता है। इसके अतिरिक्त, जितना अधिक सम्भव हो, हमें अपने कार्यों को अन्यों को सौंप देने की आवश्यकता होती है। स्मरण कीजिए कि कैसे मूसा के ससुर यित्रो ने समझदारी से उसका भारी काम को दूसरों को बाँटते हुए करने की शिक्षा दी (निर्गमन 18:13–22)।

हमारे काम की नैतिकता के बारे में, हमें स्मरण है कि परमेश्वर ने अपना सारा काम छह दिनों में समाप्त किया था और सातवें दिन विश्राम किया था। काम का यह अनुपात हमारे स्वयं के काम की नैतिकता के सम्बन्ध में हमारे सृष्टिकर्ता की अपेक्षाओं के ऊपर प्रकाश डालता है। वास्तव में, नीतिवचन 6:10–11 प्रकाशित करता है कि परमेश्वर सुस्ती से भरे हुए व्यवहार के साथ घृणा करता है: "हे आलसी, तू कब तक सोता रहेगा? तेरी नींद कब टूटेगी? कुछ और सो लेना, थोड़ी सी नींद, एक और झपकी, थोड़ा और छाती पर हाथ रखे लेटे रहना," (देखें नीतिवचन 12:24; 13:4; 18:9; 20:4; 21:25; 26:14)। इसके अतिरिक्त, तोड़ों के दृष्टान्त में (मत्ती 25:14-30) अवसर को व्यर्थ गवाँ देने की त्रासदी के साथ प्रभु के आगमन तक विश्वासपूर्वक श्रम करने के महत्व को दर्शाया गया है। हमें अपने सांसारिक रोजगार में पूरे परिश्रम के साथ काम करना चाहिए, परन्तु हमारा "काम" केवल उसी तक सीमित नहीं है, जो हम धन के लाभ की प्राप्ति के लिए करते हैं। वास्तव में, हम जो कुछ भी करते हैं, उसमें हमारा प्राथमिक ध्यान परमेश्वर की महिमा होनी चाहिए (कुलुस्सियों 3:17)। कुलुस्सियों 3:23-24 का कहना है कि, "जो कुछ तुम करते हो, तन मन से करो, यह समझकर कि मनुष्यों के लिये नहीं परन्तु प्रभु के लिये करते हो; क्योंकि तुम जानते हो कि तुम्हें इस के बदले प्रभु से मीरास मिलेगी; तुम प्रभु मसीह की सेवा करते हो।" यीशु ने स्वर्ग में धन संचय करने की बात कही (मत्ती 6: 19-21)। हमें सांसारिक धन की प्राप्ति के लिए थक जाने के बिन्दु तक काम नहीं करना है (यूहन्ना 6:27)। इसकी अपेक्षा, हमें हर उस वस्तु के लिए अपने सर्वश्रेष्ठ प्रयास को देना है, जिसे करने के लिए परमेश्वर ने हमें बुलाया है। हमारे सभी प्रयासों में - हमारे सम्बन्ध, हमारा परिश्रम, हमारी शिक्षा, दूसरों की सेवा करना, हमारे जीवन का प्रशासनिक विवरण, हमारे शरीर की स्वास्थ्य सम्बन्धित देखभाल, मनोरंजन, इत्यादि – में हमारा प्राथमिक ध्यान परमेश्वर है। यह वही है, जिसने हमें इस समय को पृथ्वी पर सौंपा है, और वह वही है, जो निर्देश देता है कि हम इसे कैसे खर्च करें।

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि विश्राम के समय का एक वैध और आवश्यक उपयोग है। हम व्यक्तिगत और शारीरिक रूप से, परमेश्वर के साथ समय बिताने की उपेक्षा नहीं कर सकते। हमें दूसरों के साथ सम्बन्धों में समय बिताने और जीवन की बातों में सम्बन्धों को स्थापित करने के लिए कठोर परिश्रम करने के लिए कहा गया है। परन्तु विश्राम का समय हमें जो ताज़गी प्रदान करता है, हम उसकी भी उपेक्षा नहीं कर सकते। विश्राम का समय व्यर्थ नहीं होता है; यह ताज़गी का समय है, जो हमें समय को और अधिक उत्तम रीति से उपयोग करने के लिए तैयार करता है। यह हमें यह भी स्मरण दिलाता है कि यह अन्ततः परमेश्वर ही है, जिसका नियन्त्रण सब कुछ के ऊपर है और जो हमारी प्रत्येक आवश्यकता को पूरा करता है। जब हम अपने समय का अच्छी तरह से प्रबन्धन करना चाहते हैं, हम विश्राम के समय को नियमित रूप से निर्धारित करने के लिए बुद्धिमान हो जाएँ।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि, हमें नियमित रूप से – प्रतिदिन - अपने समय को परमेश्वर के साथ बिताने के लिए निर्धारित करना होगा। यह वही है, जो हमें हमारे द्वारा किए जाने वाले कार्यों को पूरा करने के लिए सुसज्जित करता है। यह वही है, जो हमारे दिनों को निर्देशित करता है। सबसे बुरी बात यह है कि हम अपने समय का प्रबन्धन उसी रीति से करें कि माने यह हमारा अपना है। समय उसी का है, इसलिए उससे इसके लिए बुद्धि की माँग करें कि इसका सबसे अच्छा उपयोग कैसे करना है, फिर आत्मविश्वास में आगे बढ़ें, अपने जीवन गति में आने वाले सुधारों के प्रति संवेदनशील हों और भक्तिमयी जीवन के मार्ग में रूकावटों के लिए परमेश्वर की ओर उन्मुख हो जाएँ।

यदि आप अपने समय के उपयोग को बदलना चाहते हैं, तो पहला कदम चिन्तन करना है। अपने समय के प्रबन्धन के ऊपर विचार करने के लिए एक ठोस प्रयास करें। यह लेख उन कुछ बातों को साझा करता है, जिन्हें परमेश्वर समय के बारे में कहता है। पवित्रशास्त्र में इस विषय के ऊपर और अधिक अध्ययन करना समझदारी होगी। विचार करें कि परमेश्वर किन बातों को मूल्यवान समझता है। ध्यान दीजिए कि उसने आपको विशेष रूप से क्या कहा है। इस बात पर विचार करें कि वर्तमान में आप अपना कितना समय इन बातों के ऊपर खर्च करते हैं। विचार करें कि आप अपने कितने अधिक समय को इन बातों में निवेश कर रहे हैं। प्राथमिकताओं और दायित्वों की एक सूची बनाएँ और परमेश्वर से स्वयं के लिए किसी भी बदलाव के बारे में निर्देशित करने के लिए कहें, जिसे होने की आवश्यकता है। अपनी प्राथमिकताओं के ऊपर चिन्तन करना और समय का उपयोग नियमित रूप से अच्छे के लिए करना एक अच्छा अभ्यास है। कुछ लोग पाते हैं कि उन्हें समय के प्रबन्धन में एक जानबूझकर वार्षिक समीक्षा सहायक होती है।

समय के बारे में, बाइबल बताती है कि हमें अपना ध्यान उस ओर लगाने की आवश्यकता है, जो इस नष्ट होते संसार के क्षणभंगुर सुखों के विपरीत शाश्वतकालीन है। तदनुसार, हमें परिश्रम और ईश्वरीय उद्देश्य के साथ आगे बढ़ना चाहिए क्योंकि हम हमारे जीवन की गति में परमेश्वर के अन्तिम लक्ष्य की ओर बढ़ते हैं। परमेश्‍वर के साथ और उसे जानने के लिए, उसके वचन का अध्ययन करने और प्रार्थना करने में बिताया गया समय, कभी भी व्यर्थ नहीं जाता है। मसीह की देह के निर्माण में समय व्यतीत करना और परमेश्वर के प्रेम के साथ दूसरों को प्रेम करना (इब्रानियों 10:24-25; यूहन्ना 13:34-35; 1 यूहन्ना 3:17-18) समय को अच्छी तरह से व्यतीत करना है। सुसमाचार को साझा करने में समय का निवेश करना ताकि दूसरों को यीशु के अनन्त उद्धार का उद्धार पता चले (मत्ती 28:18-20)। हमें ऐसे जीना चाहिए जैसे कि प्रत्येक क्षण अर्थ रखता है - क्योंकि इसका वास्तव में अर्थ होता है।

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
समय प्रबन्धन के बारे में बाइबल क्या कहती है?