प्रकाशितवाक्य के चौबीस (24) प्राचीन कौन है?



प्रश्न: प्रकाशितवाक्य के चौबीस (24) प्राचीन कौन है?

उत्तर:
प्रकाशितवाक्य 4:4 घोषित करता है, "उस सिंहासन के चारों ओर चौबीस सिंहासन हैं; और इन सिंहासनों पर चौबीस प्राचीन श्वेत वस्त्र पहिने हुए बैठे हैं, और उन के सिरों पर सोने के मुकुट हैं।" प्रकाशितवाक्य की पुस्तक कहीं पर भी विशेष रूप से यह पहचान नहीं करती है कि यह चौबीस प्राचीन कौन हैं। तथापि, इनकी सबसे अधिक सम्भावना कलीसिया के प्रतिनिधि होने की है। जैसा कि कुछ लोग यह सुझाव देते हैं कि वे स्वर्गदूत हैं, की सम्भावना नहीं पाई जाती है। सच्चाई यह है कि सिंहासन पर बैठे हुए इंगित करते हैं कि वे मसीह के साथ शासन करते हैं। पवित्र शास्त्र में कहीं पर भी स्वर्गदूत शासन करते हुए या सिंहासन पर बैठे हुए नहीं दिखाई देते हैं। तथापि, कलीसिया के लिए यह निरन्तर कहा जाता है कि वह शासन करती और मसीह के साथ मिलकर शासन करती है (प्रकाशितवाक्य 2:26-27, 5:10, 20:4; मत्ती 19:28; लूका 22:30)।

इसके अतिरिक्त, "प्राचीन" शब्द के लिए जिस यूनानी शब्द का यहाँ अनुवाद के लिए उपयोग किया है, वह कहीं पर भी स्वर्गदूतों के लिए उद्धृत नहीं किया गया है, परन्तु केवल पुरूषों के लिए, विशेष रूप से एक निश्चित आयु के पुरूषों के लिए जो परिपक्व हैं और जो कलीसिया के ऊपर शासन करने के लिए सक्षम हैं। शब्द प्राचीन स्वर्गदूतों के लिए उद्धृत करना अनुचित्त होगा, जिनकी कोई आयु नहीं होती है। उनके वस्त्र धारण करने का तरीका भी उनके पुरूष होने की सूचना देता है। जबकि स्वर्गदूत श्वेत वस्त्रों को धारण किए हुए प्रगट होते हैं, श्वेत वस्त्रों को सामान्य रूप से विश्‍वासियों के लिए अधिक उपयोग किया जाता है, जो सामान्य रूप से उद्धार के समय हमें रोपित की हुई मसीह की धार्मिकता को चिन्हित करते हैं (प्रकाशितवाक्य 3:5,18; 19:8)।

प्राचीनों के द्वारा सोने के मुकुट को धारण किया होना यह भी इंगित करता है कि ये पुरूष स्वर्गदूत नहीं हैं। मुकुटों को स्वर्गदूतों को दिए जाने की प्रतिज्ञा नहीं की गई है, न ही स्वर्गदूतों को उन्हें कभी धारण किए हुए देखा गया है। अनुवादित किया हुआ शब्द "मुकुट" यहाँ पर जय पाए हुए का मुकुट को उद्धृत करता है, जिसे उनके द्वारा पहना गया है, और जैसे मसीह ने प्रतिज्ञा की थी, उन्होंने बड़ी सफलता के साथ युद्ध में विजयी रहे और जय को प्राप्त किया है (प्रकाशितवाक्य 2:10; 2 तीमुथियुस 4:8; याकूब 1:12)।

कुछ लोग विश्‍वास करते हैं कि चौबीस प्राचीन इस्राएल को प्रस्तुत करते हैं, परन्तु इस दर्शन के समय, एक जाति के रूप में पूरे इस्राएल का अभी छुटकारा नहीं हुआ था। इसी कारण के साथ प्राचीन क्लेशकाल के सन्तों को प्रस्तुत नहीं कर सकते हैं — क्योंकि उनका अभी तक बहुतों का यूहन्ना के दर्शन के समय मन परिवर्तित नहीं हुआ था। इस विकल्प की सम्भावना सबसे अधिक पाई जाती है कि प्राचीन मेघारोहित कलीसिया को प्रस्तुत करते हैं, जो कि छुटकारे के गीतों को गाती है (प्रकाशितवाक्य 5:8-10)। उन्होंने जय के मुकुटों को पहना हुआ था और उस स्थान पर गए थे, जिसे उनके उद्धारक ने उनके लिए तैयार किया था (यूहन्ना 14:1-4)।

English



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



प्रकाशितवाक्य के चौबीस (24) प्राचीन कौन है?