ईशु मसीह कोन हवय?



प्रश्न: ईशु मसीह कोन हवय?

उत्तर:
"का परमेश्वर के अस्तित्व हावय?" ऐ प्रश्न के उल्टा कि ईशु बहुत कम मनखे मन ले ये प्रश्न करिस हे कि का येशु मसीह के कोई अस्तित्व रहीस ? येहर सामान्य रूप ले स्वीकार करे जात हवे कि ईशु सिरतोन म एकठन मनखे रहीस जे हर लगभग २००० बरस पहिली इस्राएल के भुय्या के ऊपर म रेंगे बुले रहीस | बाद – बिबाद तबे चालू होईस हे जबे ईशु के पूरा पहिचान के बिसय म बिचार होवत हावय | लगभग हर एकठन मुख्य धरम ऐ गियान देत हावय कि ईशु एक पैगम्बर, या एक सुघर गुरु, या एक धरम के मनइय्या मनखे रहीस | समसिया ये हावय कि, बाइबिल हमला बतात हवे कि ईशु अनन्तता ले ही एक भविष्यवक्ता, एक सुघर गुरु, या धरम के मनइय्या मनखे ले कहीं ज्यादा बढ़कर रहीस।

सी एस लुइस अपनी पुस्तक मियर क्रिश्चियानिटी (केवलमात्र मसीहियत) म ऐ लिखथे हे, मय ईहा पर कोई का भी वो वास्तविक मूरखता पुरन गोठ ल गोठियाय ले रोके के परयास कर रहे हव जेकर बर लोग अक्सर ओकर (ईशु मसीह के ) बारे म कहत हावय | मय ईशु क एक महान नैतिक गुरु के रूप म गरहन करे ल तैयार हव, परन्तु मय ओकर परमेश्वर होय के दावा का मान नई सकव | येहर एक अईसे गोठ हे जेन हमका नई कहना चाही | एक मनखे जेन केवल एक मनखे रहीस अऊ ये परकार के गोठ गोठियात रहीस जैइसे ईशु हर कहू एक महान नैतिक गुरु नई हो सकथे | ओहर तो एक बईहा मनखे होही – ओ स्तर मा कोनो मन कहे के ओहर एक सरे वाले अंडा हवय – या फेर ओहर नरक के भुत हो सकत हवे | आपला अपन चुनाव करे बर चाही | या तो ये मनखे, जेन परमेश्वर के बेटा रहीस अऊ हवय, या फेर कोनो बईहा या कुछु अऊ एकर ले भी जादा बुरा मनखे | आप मुरखता बर का ओला चुप करा सकत हावव, ओकर ऊपर थूक सकत हावय अऊ दुष्टआत्मा के रूप म ओला मार सकत हव, या ओकर गोड तरी गिरके ओला प्रभु अऊ परमेश्वर बोल सकत हा | परंतु हमला कभो भी किरपा ले भरे हुए मूरखता के साथ ये नियाय नहीं लेबर चाही कि ओ एक महान गुरु रहीस | ओहर ऐ बिकल्प ला हमर बर खुल्ल्ला छोड़ दे हवय | ओकर अईसे कोनो मरजी नई रहीस |

ऐकर ले, ईशु हर अपन ले कोन होय के दावा करिस ? बाइबिल का कहत हे ओ कोन रहीस ? सेबल पहिली, यूहन्ना 10:30 म ईशु के बचन कोती देखत हावन, "मय अऊ पिता एकेच हन।" पहिली देखे म, ऐ परमेश्वर होय के दावा के रूप म परतीत नई होवय | परन फेर ले, ओकर कहे पर यहूदीमन के परतिक्रिया क देखी, "यहूदी मन हर ओला जवाब दिहिस, कि भल काम करे के कारन हमन ओला पथरा मा फेक के नई मारेन परन्तु परमेश्वर के निंदा करे के कारन; अऊ एकर बर कि तय मनखे होय के अपन आप ल परमेश्वर बतात हावस" (यूहन्ना 10:33)। यहूदी मन हर ईशु के बचन ला परमेश्वर होय के दावा संमझे रहीस | आघू आय वाला आयत म येशु हर यहूदी मन क सुधारे बर कभो भी ये नई कहिस, "मय हर परमेश्वर होए के दावा नई करे रहेव ।" ऐ संकेत देथे कि ईशु हर ये घोषना करथे कि "मय अऊ पिता एक हवन " (यूहन्ना 10:30) सिरतोन म कहत रहीस कि ओहर परमेश्वर हावय ।

यूहन्ना 8:58 एक अऊ उदाहरण हावय: ईशु हर कहिस, "मय तुमन से सिरतोन कहत हव कि एकर पहिली कि अब्राहम पैदा होईस, मय हव ! " एक पइत फेर, परतिक्रिया म, यहूदी मन पथरा ल उठा के ईशु क मारे के कोशिश करिस (यूहन्ना 8:59)। ईशु हर अपन पहिचान के घोषना "मय हव" कइके देहिस ओ जुन्ना नियम म परमेश्वर के नाम क सीधा तौर म लागु होत रहीस (निगर्मन 3:14)। यहूदीमन फेर ले ईशु क काबर पथरा म फेक के मारना चाहत रहीस यदि ओहर अईसे कुछु नई कहे रहीस, माने, परमेश्वर होय के दावा?

यूहन्ना 1:1 कहत हावय कि "बचन परमेश्वर रहीस।" यूहन्ना 1:14 कहत हावय कि "बचन देवधारी होइस।" ऐहर स्पष्टता ले संकेत देत हावय कि येशु देव के रूप म परमेश्वर हावय | शिष्य थोमा ईशु के सम्बन्ध म कहत हावय कि, "हे मोर प्रभु, हे मोर परमेश्वर" (यूहन्ना 20:28)। ईशु हर ओला नई सुधारिस | प्रेरित पौलुस ओकर ऐ रूप म बरनन करत हावय कि, "...अपन महान परमेश्वर अऊ मुक्ति देवईया ईशु मसीह" (तीतुस 2:13)। प्रेरित पतरस घलऊ अइसने कहत हावय कि, "... हमर परमेश्वर अऊ मुक्ति देवईया ईशु मसीह" (2पतरस 1:1)। पिता परमेश्वर घलऊ ईशु के पूर्ण पहिचान के गवाह हावय, "परन्तु बेटा ले कहत हावय कि "हे परमेश्वर,तोर सिहासन जुग जुग तक रही, तोर राज के नियाय क राजदण्ड |" जुन्ना नियम म मसीह के परति भविष्यवाणीयाँ ओकर ईश्वरत्व के घोषना करत हावय कि, "कबर के हमर बर एक बेटा दिए गईस; अऊ प्रभुता ओकर काँधे म होही, अऊ ओकर नाव अद्भुत युक्ति करेवाला पराक्रमी परमेश्वर, अनंतकाल के पिता, अऊ शांति के राजकुमार रखे जाही" (यशायाह 9:6)।

एकर बर, जईसे कि सी एस लुईस ने दलील दिस हावय, कि ईशु क एक अच्छा गुरु के रूप म मानना कोई बिकल्प नई हावय | ईशु हर स्पष्ट रूप ले अऊ परमेश्वर होय ले मना नई किये जाय बाला दावा का करिस हावय | एकर बर ओहर परमेश्वर नई ह हावय, तव फेर ओहर लबरा हावय, अऊ एकरेले एक पैगम्बर; अच्छा गुरु, या धरम के मनइया मनखे नई हावय | ईशु के बचन के बियाख्या करे के कोशिस करके, आधुनिक बिद्वान ये दावा करत हावय कि "वास्तविक ऐतिहासिक ईशु" हर ओ बहुत बात ल नई कहे हावय जेला बाइबिल म ओहर कहे हावय | परमेश्वर के बचन के संग बहस करे बाला हमन कोन होत हन कि ईशु हर कहिस कि का नई कहिस ? कईसे कोई "बिद्वान" जेन ईशु ले दो हजार बरस बाद आईस म ऐसा उत्तम बोध ओकर आलावा जेन ओकर साथ रहीस, जेमन ओकर सेवा करिस अऊ खुदे ईशु ले गियान पईस हावय कईसे हो सकत हावय कि येशु हर का कहिस या का नई कहिस (यूहन्ना 14:26)?

ईशु के सिरतोन पहिचान बर एतका परास्ना महत्वपूर्ण काबर हावय ? ये गोठ के का मतलब हावय कि येशु परमेश्वर हावय के नई ? एकर सबके महत्वपूर्ण कारन ये हावय कि ईशु के एकर ले परमेश्वर होना रहीस ओहर ये हावय कि यदि ईशु परमेश्वर नहीं हावय, त ओकर मरना पूरा संसार के पाप के डाड के दाम चुकाए बर पर्याप्त नहीं ही सकतिस (1यूहन्ना 2:2)। केवल परमेश्वर ही अईसे असीमित डाड ल भर सकत रहीस हावय (रोमियों 5:8; 2कुरिन्थियों 5:21)। ईशु के परमेश्वर होय बर रहीस तेकर ले ओहर हमर करजा ल पटा सके | येशु ल मनखे होय बर रहीस तेकर ले ओहर मर सके | मुक्ति केवल ईशु मसीह म बिश्वास करे म ही मिलत हावय | ईशु के ईश्वरत्व ही हेकबर कि ओही हर उद्धार के एकेच रद्दा हावय | ईशु के ईश्वरत्व ही हावय जेकर कारन ओहर ये घोशना करिस कि, "रद्दा, अऊ सच्चाई अऊ जीवन मय हर ही हव |" बिना मोर द्वारा कोई पिता के पास नई पहुच सके " (यूहन्ना 14:6)।



छत्तीसगढ़ही के मुखिय पन्ना पर वापस जावा|



ईशु मसीह कोन हवय?