मैं कैसे परमेश्वर के साथ सही हो सकता हूँॽ



प्रश्न: मैं कैसे परमेश्वर के साथ सही हो सकता हूँॽ

उत्तर:
परमेश्वर के साथ "सही" होने के लिए, हमें सबसे पहले यह समझना होगा कि "गलत" क्या है। इसका उत्तर पाप है। "कोई भी सुकर्मी नहीं, एक भी नहीं" (भजन संहिता 14:3)। हमने परमेश्वर के आदेशों के विरूद्ध विद्रोह किया है; हम "भेड़ों के समान भटक गये थे" (यशायाह 53:6)।

बुरा समाचार यह है कि पाप की सजा मृत्यु है। "जो प्राणी पाप करे वही मर जाएगा" (यहेजकेल 18:4)। अच्छा समाचार यह है कि एक प्रेमी परमेश्वर ने हमें प्रेरित किया है ताकि हमें उद्धार तक पहुँचा सके। यीशु ने अपने उद्देश्य की उदघोषणा ऐसे की थी कि वह "खोए हुओं को ढूँढने और उनका उद्धार करने आया है" (लूका 19:10), और उसने घोषणा की कि उसका उद्देश्य प्राप्त हो गया था जब वह क्रूस के ऊपर, "पूरा हुआ!" शब्दों के साथ मरा था (यूहन्ना 19:30)।

परमेश्वर के साथ सही सम्बन्ध का होना अपने पापों को स्वीकार करने के साथ ही आरम्भ होता है। इसके आगे परमेश्वर के सम्मुख अपने पापों के लिए एक नम्र अंगीकार करना (यशायाह 57:15) और पापों को छोड़ने का दृढ़ संकल्प आता है। "क्योंकि धार्मिकता के लिए मन से विश्वास किया जाता है, और उद्धार के लिए मुँह से अंगीकार किया जाता है" (रोमियों 10:10)।

यह पश्चाताप विश्वास के साथ होना चाहिये – विशेषकर, ऐसा विश्वास कि यीशु की बलिदानात्मक मृत्यु तथा आश्चर्यजनक पुनरुत्थान उसे आपका उद्धारकर्ता बनने के योग्य बनाता हो। "यदि तू अपने मुँह से यीशु को प्रभु जानकर अंगीकार करे, और अपने मन से विश्वास करे कि परमेश्वर ने उसे मरे हुओं में से जिलाया, तो तू निश्चय उद्धार पाएगा" (रोमियों 10:9)। कई अन्य संदर्भ विश्वास के होने की आवश्यकता की बात करते हैं, जैसे (यूहन्ना 20:27; प्रेरितों के काम 16:31; गलातियों 2:16; 3:11; 26; और इफिसियों 2:8)।

परमेश्वर के साथ सही होना आपकी उस प्रतिक्रिया का विषय है जिसमें परमेश्वर ने आपके बदले में क्या कुछ किया है। उसने उद्धारकर्ता को भेजा, उसने आपके पापों को हटा देने के लिए बलिदान का प्रबन्ध किया (यूहन्ना 1:29), और वह आपको यह प्रतिज्ञा देता है: "जो कोई प्रभु का नाम लेगा, वह उद्धार पाएगा" (प्रेरितों के काम 2:21)।

उड़ाऊ पुत्र का दृष्टान्त (लूका 15:11-32) पश्चाताप तथा क्षमा का एक सबसे सुन्दर उदाहरण है। छोटे पुत्र ने अपने पिता द्वारा भेंट में दी गई सम्पत्ति को कुकर्मों में उड़ा दिया (आयत 13)। जब उसने अपने गलत कार्यों को पहचाना, तब उसने घर लौटने का निर्णय लिया (आयत 18)। उसने यह अनुमान लगाया कि वह अब पुत्र कहलाने लायक नहीं रहा (आयत 19), परन्तु वह गलत था। पिता ने जैसा वह पहले प्रेम करता था वैसे ही उस लौटे हुए विद्रोही को प्रेम किया (आयत 20)। सब कुछ क्षमा कर दिया गया, और एक भोज को दिए जाने का आदेश दिया गया (आयत 24)। परमेश्वर अपनी प्रतिज्ञाओं को, जिसमें क्षमा की प्रतिज्ञा भी सम्मिलित है, को पूरा करने में भला है। "यहोवा टूटे मनवालों के समीप रहता है, और पिसे हुओं का उद्धार करता है" (भजन संहिता 33:18)।

यदि आप परमेश्वर के साथ सही होना चाहते है, तो यहाँ पर एक सरल प्रार्थना है। स्मरण रखें, इस प्रार्थना या कोई अन्य प्रार्थना का बोलना आपको बचा नहीं सकता है। केवल यीशु में विश्वास ही है जो आपको पाप से बचा सकता है। यह प्रार्थना उसमें अपने विश्वास को व्यक्त करने और आपके लिए उद्धार का प्रबन्ध करने के लिए धन्यवाद देने का एक तरीका मात्र है। "हे, परमेश्वर, मैं जानता हूँ कि मैं ने आप के विरुद्ध पाप किया है, और मैं सजा का पात्र हूँ। परन्तु यीशु मसीह ने उस सजा को स्वयं पर ले लिया जिसके योग्य मैं था ताकि उसमें विश्वास करने के द्वारा मैं क्षमा किया जा सकूँ। मैं उद्धार के लिए आपमें अपने विश्वास को रखता हूँ। आपके अद्भुत अनुग्रह तथा क्षमा – जो अनन्त जीवन का उपहार है, के लिए मैं आपका धन्यवाद करता हूँ! आमीन।"

जो कुछ आपने यहाँ पढ़ा है क्या उसके कारण आपने मसीह के पीछे चलने के लिए निर्णय लिया है? यदि ऐसा है तो कृप्या नीचे दिए हुए "मैंने आज यीशु को स्वीकार कर लिया है" वाले बटन को दबाइये।



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



मैं कैसे परमेश्वर के साथ सही हो सकता हूँॽ