धूम्रपान के प्रति मसीही दृष्टिकोण क्या हैॽ क्या धूम्रपान एक पाप है?



प्रश्न: धूम्रपान के प्रति मसीही दृष्टिकोण क्या हैॽ क्या धूम्रपान एक पाप है?

उत्तर:
बाइबल धूम्रपान का सीधे कभी उल्लेख नहीं करती है। हालांकि, इसमें सिद्धांत हैं, जो कि निश्चित रूप से धूम्रपान के ऊपर लागू होते हैं। सबसे पहले, बाइबल हमें आदेश देती है कि हम हमारे शरीरों कि किसी भी बात के "अधीन" होने की अनुमति नहीं देनी चाहिए। "सब वस्तुएँ मेरे लिए उचित तो हैं, परन्तु सब वस्तुएँ मेरे लाभ की नहीं; सब वस्तुएँ मेरे लिए उचित हैं, परन्तु मैं किसी बात के अधीन न हूँगा" (1 कुरन्थियों 6:12)। धूम्रपान इन्कार न किए जाने के रूप में एक शक्तिशाली लत है। इसी संदर्भ में बाद में हमें कहा गया है कि, "क्या तुम नहीं जानते कि तुम्हारी देह पवित्र आत्मा का मन्दिर है, जो तुम में बसा हुआ है और तुम्हें परमेश्वर की ओर से मिला है; और तुम अपने नहीं होॽ क्योंकि दाम देकर मोल लिए गए हो, इसलिए अपनी देह के द्वारा परमेश्वर की महिमा करो (1 कुरिन्थियों 6:19-20)। बिना किसी सन्देह के धूम्रपान आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत बुरी है। धूम्रपान करने से फेफड़े और हृदय का नुक्सान होना प्रमाणित हुआ है।

क्या धूम्रपान करना "लाभदायक" माना जा सकता है (1 कुरन्थियों 6:12)ॽ क्या ऐसा कहा जा सकता है कि धूम्रपान करना वास्तव में अपने शरीर के साथ परमेश्वर की महिमा करना है (1 कुरिन्थियों 6:20)ॽ क्या परमेश्वर ईमानदारी से परमेश्वर की महिमा के लिए धूम्रपान कर सकता है (1 कुरिन्थियों 10:31)ॽ हम विश्वास करते हैं कि इन तीन प्रश्नों के उत्तर गूँजती हुई आवाज "नहीं" में हैं। परिणामस्वरूप, हम विश्वास करते हैं कि धूम्रपान एक पाप है और इसलिए यीशु मसीह के अनुयायी होने के नाते इसे अभ्यास में नहीं लाना चाहिए।

कुछ लोग इस विचारधारा के विरूद्ध इस तथ्य की ओर संकेत करते हुए दलील देते हैं कि बहुत से लोग अस्वास्थ्यकारी भोजन खाते हैं, जो बस केवल शरीर के लिए ठीक वैसे ही लत लगाने वाला और बुरा हो सकता है। उदाहरण के लिए, बहुत से लोग कैफ़ीन नामक नशे वाले पदार्थ को लेने के लिए इतने ज्यादा असहाय होते हुए आदी होते हैं कि इसे सुबह कॉफी के रूप में एक प्याला लिए बिना कार्य करने के योग्य ही नहीं होते हैं। जबकि यह सच्च है, परन्तु यह किस तरह से धूम्रपान को सही ठहराता हैॽ हमारी दलील यह है कि मसीही विश्वासियों को पेटूपन और ज्यादा अस्वास्थ्यकारी भोजन को खाने से बचना चाहिए। हाँ, मसीही विश्वासी अक्सर एक पाप के लिए दोष लगाने और किसी अन्य पाप के लिए दोष लगाने के लिए पाखंडी होते हैं, परन्तु, एक बार फिर से, यह किसी भी तरह से धूम्रपान को परमेश्वर के लिए सम्मान के लिए सही नहीं ठहराता है।

धूम्रपान के इस दृष्टिकोण के विरूद्ध एक और विचारधारा यह है कि बहुत से धार्मिक लोग धूम्रपान करते थे, जैसे कि प्रसिद्ध ब्रिटिश उपदेशक सी. एच, स्पर्जन, जो कि सिगार को पीने के लिए जाने जाते थे। एक बार फिर से, हम यह विश्वास नहीं करते हैं कि इस दलील में कुछ ज्यादा ही वजन है। हम विश्वास करते हैं कि स्पर्जन का धूम्रपान करना गलत था। क्या वह इसकी बजाए एक धार्मिक व्यक्ति और परमेश्वर के वचन का अनोखा शिक्षक थाॽ जी हाँ बिल्कुल ठीक! क्या यह उसके सारे कार्यों और आदतों को परमेश्वर के सम्मान के लिए सही ठहराता हैॽ नहीं।

ऐसा कहते हुए कि धूम्रपान एक पाप है, हम यह नहीं कह रहे हैं कि धूम्रपान करने वाले सभी लोग बच जाएगें। यीशु मसीह के बहुत से सच्चे विश्वासी हैं जो धूम्रपान करते हैं। धूम्रपान किसी भी व्यक्ति को बचाए जाने से नहीं रोकता है। न ही यह किसी व्यक्ति को उसका उद्धार खोने का कारण बनता है। धूम्रपान किसी भी अन्य पाप की तरह क्षमा किए जाने से किसी भी तरह कम नहीं है, चाहे एक व्यक्ति मसीही विश्वासी बन रहा हो या एक मसीही विश्वासी अपने पापों को परमेश्वर के सामने अंगीकार ही क्यों न करे (1 यूहन्ना 1:9)। ठीक उसी समय, हम दृढ़ता से विश्वास करते हैं कि धूम्रपान करना एक पाप है और इसे त्याग दिया जाना चाहिए और परमेश्वर की सहायता से इसके ऊपर विजयी पानी चाहिए।



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



धूम्रपान के प्रति मसीही दृष्टिकोण क्या हैॽ क्या धूम्रपान एक पाप है?