बाइबल नस्लवाद, पूर्वाग्रह और पक्षपात के बारे में क्या कहती है?



प्रश्न: बाइबल नस्लवाद, पूर्वाग्रह और पक्षपात के बारे में क्या कहती है?

उत्तर:
इस चर्चा में सबसे पहले बात यह समझने की है कि यहाँ पर केवल एक ही नस्ल या जाति - मानव जाति है। श्वते लोग, अफ्रीकी, एशियाई, भारतीय, अरबी, यहूदियों भिन्न जातियाँ या नस्लें नहीं हैं। इसकी अपेक्षा, ये मानव जाति के विभिन्न उपजातियाँ हैं। सभी मनुष्यों की एक ही जैसी शारीरिक विशेषताएँ हैं (इसमें सन्देह नहीं कि थोड़ी बहुत भिन्नता के साथ)। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है, कि सभी मनुष्य परमेश्वर के स्वरूप और समानता में सृजे गए हैं (उत्पत्ति 1:26-27)। परमेश्वर ने जगत से इतना प्रेम किया कि उसने अपने पुत्र को अपना जीवन देने के लिए भेज दिया (यूहन्ना 3:16)। यह "संसार" स्पष्ट रूप से सभी जातीय समूहों को सम्मिलित करता है।

परमेश्वर किसी के साथ पक्षपात या झुकाव नहीं दिखाता है (व्यवस्थाविवरण10:17; प्ररितों के कम 10:34; रोमियों 2:11; इफिसियों 6:9), और न ही हमें इसकी आवश्यकता होनी चाहिए। याकूब 2:4 उन पक्षपाती लोगों का वर्णन "बुरे विचार से न्याय करने वालों" के रूप में देता है। इसकी अपेक्षा, हमें हमारे पड़ोसियों से प्रेम करना चाहिए (याकूब 2:8)। पुराने नियम में, परमेश्वर ने मनुष्य को दो "जातीय" समूहों: यहूदी और अन्यजातियों में विभाजित कर दिया था। परमेश्वर की यहूदियों के लिए मंशा याजकों के एक राज्य की थी, जो कि अन्यजाति राष्ट्रों की सेवा करेगा। इसकी अपेक्षा, अधिकांश भागों में, यहूदी अपने अहोदे के कारण घमण्ड में आ गए और अन्यजातियों को तिरस्कृत कर दिया। यीशु मसीह आकर इसका अन्त, शत्रुता की विभाजित करने वाली दिवार को नाश करते हुए कर दिया (इफिसियों 2:14)। सभी तरह का नस्लवाद, पूर्वाग्रह, और पक्षपात के सभी रूप क्रूस पर मसीह के किए हुए कार्य के लिए अपमान हैं।

यीशु ने हमें आदेश देता है कि हम एक दूसरे से प्रेम करें जैसा उसने हमसे किया है (यूहन्ना 13:34)। यदि परमेश्वर अपक्षपाती है और हमसे पक्षपातरहित होकर प्रेम करता है, तब हमें भी उसी ही जितने स्तर में एक दूसरे के साथ प्रेम करना चाहिए। यीशु मत्ती 25 में हमें शिक्षा देता है कि यदि हम अपने भाइयों के साथ थोड़ा सा भी उत्तम करते हैं, तो हम उसके साथ करते हैं। यदि हम एक व्यक्ति को अपमानित करते हुए व्यवहार करते हैं, तो हम एक ऐसे व्यक्ति के साथ गलत व्यवहार कर रहे हैं जो कि परमेश्वर के स्वरूप में रचा गया है; हम किसी ऐसे व्यक्ति को ठेस पहुँचा रहे हैं जिसे परमेश्वर प्रेम करता है और जिसके लिए यीशु मरा है।

नस्लवाद, विभिन्न रूपों में विभिन्न स्तर पर, हजारों वर्षों से मनुष्य के लिए एक महामारी के जैसे रहा है। सभी जातियों के भाईयों और बहिनों, ऐसा नहीं होना चाहिए। नस्लवाद, पूर्वाग्रह और पक्षपात से पीड़ितों को क्षमा की आवश्कता है। इफिसियों 4:32 घोषणा करता है कि, "एक दूसरे पर कृपालु और करूणामय हो, और जैसे परमेश्वर ने मसीह में तुम्हारे अपराध क्षमा किए, वैसे ही तुम भी एक दूसरे के अपराध क्षमा करो।" हो सकता है कि नस्लवादी क्षमा के योग्य न हो, परन्तु हम परमेश्वर की क्षमा के लिए किसी भी तरह से योग्य न थे। वे जो नस्लवाद, पूर्वाग्रह और पक्षपात को व्यवहार में लाते हैं को पश्चाताप की आवश्यकता है। "अपने आपको मरे हुओं से जी उठा हुआ जानकर परमेश्वर को सौंपो, और अपने अंगों को धर्म के हथियार होने के लिए परमेश्वर को सौंपो (रोमियों 6:13)। प्रार्थना है कि गलातियों 3:28 पूरी तरह से वास्तविक बन जाए, "अब न कोई यहूदी रहा और न यूनानी, न कोई दास न स्वतंत्र, न कोई नर या नारी, क्योंकि तुम सब मसीह यीशु में एक हो।"



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



बाइबल नस्लवाद, पूर्वाग्रह और पक्षपात के बारे में क्या कहती है?