उत्पत्ति में लोगों ने लंबे समय तक जीवन यापन क्यों किया?



प्रश्न: उत्पत्ति में लोगों ने लंबे समय तक जीवन यापन क्यों किया?

उत्तर:
यह कुछ सीमा तक एक रहस्य के जैसे है कि क्यों उत्पत्ति के आरम्भिक अध्यायों में लोगों ने इतने लम्बे जीवन को यापन किया है। बाइबल के बहुत से विद्धान इसके लिए कई सिद्धांतों को लेकर आए हैं। उत्पत्ति 5 में वर्णित वंशावली आदम की धर्मी सन्तानों की वंशावली की सूची का वर्णन देती है – ऐसी सूची जो कि अन्त में मसीह को उत्पन्न करेगी। परमेश्वर ने संभवत: इस सूची को विशेष रूप से लम्बे समय तक जीवित रहने के लिए उनकी धार्मिक और आज्ञाकारिता से भरे हुए जीवन के कारण आशीषित ठहराया। जबकि यह एक संभव स्पष्टीकरण है, बाइबल कहीं पर भी उत्पत्ति अध्याय 5 में वर्णित व्यक्तियों के लंबे जीवनकाल को सीमित नहीं करता है। इसके अतिरिक्त, हनोक को छोड़कर, उत्पत्ति 5 किसी भी अन्य व्यक्ति को विशेष रूप से धर्मी होने के रूप में पहचान नहीं करती है। संभावना यह है कि उस समय के काल में प्रत्येक कई सौ वर्षों तक जीवित रहा। कई कारकों का हो सकता है इसके लिए योगदान रहा होगा।

उत्पत्ति 1:6-7 अन्तर के ऊपर जल का उल्लेख करता है, जल के एक मण्डप का जिसने पृथ्वी के चारों ओर से घेरा हुआ था। जल के इस तरह के मण्डप ने ग्रीनहाऊस गैसों के प्रभाव अर्थात् गर्म ऊर्जा को उत्पन्न किया होगा और अधिकांश विकिरणों को रोक दिया होगा जो अब पृथ्वी से आ टकराती हैं। परिणामस्वरूप इसने आदर्श जीवन यापन परिस्थितियों का निर्माण किया होगा। उत्पत्ति 7:11 संकेत देता है कि बाढ़ के समय, पानी का मण्डप पृथ्वी के ऊपर उंड़ेल दिए जाने के, परिणामस्वरूप आदर्श जीवन यापन परिस्थितियाँ समाप्त हो गई। बाढ़ के पूर्व जीवनकाल (उत्पत्ति 5:1-32) की तुलना बाढ़ के बाद के जीवन के साथ करें। बाढ़ के तुरन्त पश्चात्, उम्र नाटकीय तरीके से कम हो गई।

एक अन्य विचारयोग्य बात यह है कि सृष्टि के निर्माण के पश्चात् की कुछ पीढ़ियों में, मानवीय आनुवंशिक कोड में कुछ दोष विकसित हो गए। आदम और हव्वा को पूर्ण सिद्ध बनाया गया था। वे निश्चित रूप से उच्च स्तर में बीमारी और रोगों के प्रति प्रतिरोधी थे। हो सकता है कि उनकी सन्तानों ने इन लाभों को धरोहर में, कदाचित् कुछ कम स्तर में पाया हो, समय के बीतने के साथ, पाप के परिणाम स्वरूप मानवीय आनुवंशिक कोड तेजी से भ्रष्ट होता चला गया, और मृत्यु और बीमारी के प्रति अतिसंवेदनशील होता चला गया। यही तेजी से जीवन यापन को भी कम करने का परिणाम भी बन गया।



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



उत्पत्ति में लोगों ने लंबे समय तक जीवन यापन क्यों किया?