क्या नरक वास्तविक है? क्या नरक अनन्तकाल के लिए है?



प्रश्न: क्या नरक वास्तविक है? क्या नरक अनन्तकाल के लिए है?

उत्तर:
यह दिलचस्प बात है कि लोगों का एक बहुत उच्च प्रतिशत स्वर्ग के अस्तित्व में नरक के अस्तित्व की तुलना में ज्यादा विश्वास करते हैं। यद्यपि, बाइबल के अनुसार, नरक उतना ही वास्तविक है जितना कि स्वर्ग। बाइबल साफ और स्पष्ट रूप से शिक्षा देती है कि नरक एक ऐसा वास्तविक स्थान है जहाँ पर मृत्यु पश्चात् दुष्ट/अविश्वासियों को भेजा जाता है। हम सबने परमेश्वर के विरूद्ध पाप किया है (रोमियों 3:23)। पाप के लिए न्याय से भरी हुई सजा मृत्यु है (रोमियों 6:23)। क्योंकि हमारे सारे पाप आखिरकार परमेश्वर के विरूद्ध हैं, और क्योंकि परमेश्वर असीमित और अनन्तकाल का प्राणी हैं, इसलिए पाप की सजा, मृत्यु को भी असीमित और अनन्तकाल की होनी चाहिए। नरक असीमित और अनन्तकाल की मृत्यु है जिसे हमने हमारे पाप के कारण कमाया है।

दुष्ट के लिए सजा नरक की मृत्यु है जिसे पूरे पवित्र शास्त्र में "अनन्तकाल की आग" (मत्ती 25:41), "न बुझने वाली आग (मत्ती 3:12), "नामधराई और सदा तक अत्यन्त घिनौने ठहरने के लिए" (दानिय्येल 12:2), एक ऐसा स्थान "जहाँ की आग कभी बुझने की नहीं" (मरकुस 9:44-49), एक "विलाप" और "आग" का स्थान (लूका 16:23-24), "अनन्त विनाश" (2 थिस्सलुनीकियों 1:9), एक ऐसा पीड़ा का स्थान जहाँ का "धुआँ युगानुयुग उठता रहेगा" (प्रकाशितवाक्य 14:10-11), और "गन्धक की झील" जहाँ पर दुष्ट "रात और दिन युगानुयुग पीड़ा से तड़पते रहेंगे" के रूप में वर्णन किया हुआ है (प्रकाशितवाक्य 20:10)।

नरक में दुष्ट के लिए दी हुई सजा कभी भी समाप्त नहीं होने वाली ठीक वैसे ही जैसे स्वर्ग में धर्मियों के लिए आनन्द है। यीशु स्वयं संकेत देते हैं कि नरक में सजा स्वर्ग में सदा के जीवन की तरह अनन्तकाल के लिए होगी (मत्ती 25:46)। दुष्ट सदैव के लिए परमेश्वर के प्रकोप और क्रोध के अधीन होगें। वे जो नरक में होगें परमेश्वर के धार्मिकता से भरे हुए पूर्ण न्याय को स्वीकार करेंगे (भजन संहिता 76:10)। वे जो नरक में होंगे यह जानेगें कि उनकी सजा न्यायसंगत है और इसके लिए केवल उन्हीं पर दोष लगाया जाना चाहिए (व्यवस्थाविवरण 32:3-5)। हाँ, नरक विलाप और सजा का ऐसा स्थान है जो कि सदैव के लिए, बिना किसी अन्त के बना रहेगा। परमेश्वर की स्तुति हो, कि यीशु के द्वारा, हम इस अनन्त दुर्भाग्य से बच सकते हैं (यूहन्ना 3:16, 18, 36)।



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



क्या नरक वास्तविक है? क्या नरक अनन्तकाल के लिए है?